हम फ़क़ीरों से क्या ले गई!

सर से चादर बदन से क़बा ले गई,
ज़िन्दगी हम फ़क़ीरों से क्या ले गई|

बशीर बद्र