चुटकी ले नर्म नर्म गालों में!

रात तेरी यादों ने दिल को इस तरह छेड़ा,
जैसे कोई चुटकी ले नर्म नर्म गालों में|

बशीर बद्र