अपने सीने में दो गज़ ज़मीं बांधकर!

अपने सीने में दो गज़ ज़मीं बांधकर,
आसमानों का ज़र्फ़ आज़माया करो|

राहत इन्दौरी