कोई पहचान ज़रा देख तो लो!

तुम ये कहते हो कि मैं ग़ैर हूँ फिर भी शायद,
निकल आए कोई पहचान ज़रा देख तो लो|

जावेद अख़्तर