Categories
Uncategorized

मरघट में पी खामोशी से, पनघट पर शोर मचाकर पी!

आज फिर से एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट की बारी है –

 

 

आस्था के बारे में एक प्रसंग याद आ रहा है, जो कहीं सुना था।

ये माना जाता है कि यदि आप सच्चे मन से किसी बात को मानते हैं, इस प्रसंग में यदि आप ईश्वर को पूरे मन से मानते हैं, तो वह आपको अवश्य मिल जाएंगे।

इस बीच कवि सोम ठाकुर जी के गीत ‘प्रेम का प्याला’ से कुछ पंक्तियां याद आ रही हैं-

जीते जी तरना चाहे तो, पी ले गंगाजल के बदले,
मीरा ने टेरे श्याम पिया तो अर्थ हलाहल के बदले,
मरघट में पी खामोशी से, पनघट पर शोर मचाकर पी।

 

ये प्याला प्रेम का प्याला है, तू नाचके और नचाकर पी,
खुल खेलके पी, झुक झूमके पी, मत गैर से नज़र बचाकर पी।
ये प्याला प्रेम का प्याला है।

बहुत ही सुंदर गीत है ये, जितना अचानक याद आया, मैंने शेयर कर लिया। असल में यह आस्था और विश्वास का ही मामला है। बच्चे का विश्वास! वो जो मानता है, पूरी तरह मानता है, कोई ढोंग नहीं करता।

तो प्रसंग यह है कि एक पंडित जी रोज सुबह नदी में स्नान करने जाते, वे नदी किनारे अपने वस्त्र आदि रखकर नदी में स्नान करते। अक्सर एक बच्चा, जो गाय चराने आता था, उससे वे अपने सामान का ध्यान रखने को कहते थे और वो ऐसा करता भी था।

वह बच्चा उनको स्नान के दौरान प्रार्थना करते देखता, जिसमें वे अपने कंठ को अपनी उंगलियों के बीच हल्का सा दबा लेते थे। एक बार जब वे इसी प्रकार बच्चे से निगरानी के लिए बोलकर, नदी में जा रहे थे तब बच्चे ने पूछा पहले ये बताओ कि आप ये कंठ को क्यों दबाते हो। पंडित जी ने बोला हम भगवान की प्रार्थना करते हैं, दर्शन देने के लिए कहते हैं।

बच्चे ने पूछा कि क्या आपको भगवान दिखाई देते हैं, पंडित जी ने टालने के लिए बोल दिया कि ‘हां’।
इसके बाद बच्चा एक बार नदी में नहाने के लिए गया और उसने अपना कंठ दबाकर प्रभु से प्रार्थना की कि वे उसको दर्शन दें। कुछ देर तक दर्शन न होने पर वो बोला ‘आप जानते नहीं मैं कितना ज़िद्दी हूँ, मुझे दर्शन दो, नहीं तो मैं कंठ से हाथ नहीं हटाऊंगा!’

प्रभु ने सोचा यह पागल तो मर जाएगा, सो उन्होंने नदी किनारे भगवान श्रीकृष्ण के रूप में, प्रकट होकर कहा अब तो हाथ हटाओ देखो मैं आ गया, बच्चे ने कहा वहीं रुको, फिर पूछा, ‘आप कौन हो’ , उन्होंने कहा मैं वही ईश्वर हूँ, जिसको तुम बुला रहे थे।‘ बच्चा बोला, मैं नहीं मानता, उसने उनको रस्सी से पेड़ के साथ बांधकर कहा- ‘रुको, मैं अभी आता हू‘, वह भागकर पंडित जी को बुलाकर लाया, शुरू में तो पंडित जी को कुछ दिखाई नहीं दिया, लेकिन बाद में बच्चे की ज़िद के कारण, भगवान ने ढोंगी पंडित जी को भी दर्शन दिए, तब जाकर भगवान बंधन मुक्त हो पाए।

बस यही बात है आज की, प्रेम में ढोंग नहीं, पागलपन ज्यादा काम आता है।

नमस्कार।

————–

Categories
Uncategorized

प्रेमा नदी – सोम ठाकुर

आज मैं एक बार फिर से अपने प्रिय कवियों में से एक माननीय श्री सोम ठाकुर जी की एक कविता शेयर कर रहा हूँ| यह एक अलग तरह की कविता है जो अपना संपूर्ण प्रभाव पाठक/श्रोता पर छोड़ती है| लीजिए इस कविता का आनंद लीजिए-

 

 

 

मैं कभी गिरता – संभलता हूँ
उछलता -डूब जाता हूँ,
तुम्हारी मधुबनी यादें लिए
प्रेमा नदी|

 

यह बड़ी जादूभरी, टोने चढ़ी है,
फूटती है सब्ज़ धरती से, मगर
नीले गगन के साथ होती है,
रगो में दौड़ती है सनसनी बोती हुई
मन को भिगोती हुई,
उमड़ती है अंधेरी आँधियो के साथ
उजली प्यास का मरुथल पिए, प्रेमा नदी|

 

भोर को सूर्य घड़ी में
खुशबुओं से मैं पिघलता हूँ,
उबालों को हटाते ग्लेशियर लादे हुए
हर वक़्त बहता हूँ,
रुपहली रात की चंद्रा-भंवर में
घूम जाता हूँ,
बहुत खामोश रहता हूँ
मगर वंशी बनाती है मुझे
अपनी छुअन के साथ,
हर अहसास को गुंजन किए
प्रेमा नदी|

 

यह सदानीरा पसारे हाथ
मेरे मुक्त आदिम निर्झरों को माँग लेती है,
कदंबों तक झुलाती है
निचुड़ती बिजलियाँ देकर
भरे बादल उठाती है,
बिछुड़ते दो किनारे को
हरे एकांत का सागर दिए
प्रेमा नदी|

 

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|

******

Categories
Uncategorized

अनमना दर्पण निमंत्रण दे रहा है- सोम ठाकुर

आज मैं फिर से अपने एक प्रिय कवि सोम ठाकुर जी का एक गीत शेयर कर रहा हूँ| इस गीत में उन्होंने बहुत सुंदर रूमानी भाव व्यक्त किए हैं| सोम ठाकुर जी  ने हर प्रकार के भावों को लेकर बहुत सुंदर गीत लिखे हैं और कवि सम्मेलनों में उनको सुनने का बहुत दिव्य अनुभव होता था| पता नहीं वे आजकल सक्रिय हैं या नहीं| वैसे भी आजकल लॉकडाउन में तो सभी घरों में बंद हैं| मैं सोम ठाकुर जी की दीर्घायु की कामना करता हूँ|

लीजिए प्रस्तुत है सोम ठाकुर जी का यह प्यारा सा गीत-

 

लौट आओ मांग के सिंदूर की सौगंध तुमको
नयन का सावन निमंत्रण दे रहा है।

 

आज बिसराकर तुम्हें कितना दुखी मन यह कहा जाता नहीं है।
मौन रहना चाहता, पर बिन कहे भी अब रहा जाता नहीं है।
मीत! अपनों से बिगड़ती है बुरा क्यों मानती हो?
लौट आओ प्राण! पहले प्यार की सौगंध तुमको
प्रीति का बचपन निमंत्रण दे रहा है।

 

रूठता है रात से भी चांद कोई और मंजिल से चरण भी
रूठ जाते डाल से भी फूल अनगिन नींद से गीले नयन भी
बन गईं है बात कुछ ऐसी कि मन में चुभ गई, तो
लौट आओ मानिनी! है मान की सौगंध तुमको
बात का निर्धन निमंत्रण दे रहा है।

 

चूम लूं मंजिल, यही मैं चाहता पर तुम बिना पग क्या चलेगा?
मांगने पर मिल न पाया स्नेह तो यह प्राण-दीपक क्या जलेगा?
यह न जलता, किंतु आशा कर रही मजबूर इसको
लौट आओ बुझ रहे इस दीप की सौगंध तुमको
ज्योति का कण-कण निमंत्रण दे रहा है।

 

दूर होती जा रही हो तुम लहर-सी है विवश कोई किनारा,
आज पलकों में समाया जा रहा है सुरमई आंचल तुम्हारा
हो न जाए आंख से ओझल महावर और मेंहदी,
लौट आओ, सतरंगी शृंगार की सौगंध तुम को
अनमना दर्पण निमंत्रण दे रहा है।

 

कौन-सा मन हो चला गमगीन जिससे सिसकियां भरतीं दिशाएं
आंसुओं का गीत गाना चाहती हैं नीर से बोझिल घटाएं
लो घिरे बादल, लगी झडि़यां, मचलतीं बिजलियां भी,
लौट आओ हारती मनुहार की सौगंध तुमको
भीगता आंगन निमंत्रण दे रहा है।
यह अकेला मन निमंत्रण दे रहा है।

 

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|

******

Categories
Uncategorized

भाभी माँगे खट्टी अमिया, भैया रस की खीर!

आज एक बार फिर से देश के लोकप्रिय कवि और गीतकार माननीय श्री सोम ठाकुर जी का एक बेहद लोकप्रिय गीत शेयर कर रहा हूँ, मेरा सौभाग्य है कि आयोजनों के सिलसिले में मुझे उनसे कई बार मिलने का और अनेक बार उनका काव्य-पाठ सुनने का अवसर प्राप्त हुआ है।

 

 

इस गीत की विशेषता यह है कि एक समय था जब आकाशवाणी से प्रातः काल प्रसारित होने वाले ‘ब्रज माधुरी’ कार्यक्रम में नियमित रूप से यह गीत प्रसारित होता है। लीजिए प्रस्तुत है हमारे महान भारतवर्ष का गौरव गान करने वाला यह गीत-

 

सागर चरण पखारे, गंगा शीश चढ़ावे नीर,
मेरे भारत की माटी है चन्दन और अबीर,
सौ-सौ नमन करूँ मैं भैया, सौ-सौ नमन करूँ।

 

मंगल भवन अमंगलहारी के गुण तुलसी गावे,
सूरदास का श्याम रंगा मन अनत कहाँ सुख पावे।
जहर का प्याला हँस कर पी गई प्रेम दीवानी मीरा,
ज्यों की त्यों रख दीनी चुनरिया, कह गए दास कबीर।
सौ-सौ नमन करूँ मैं भैया, सौ- सौ नमन करूँ।

 

फूटे फरे मटर की भुटिया, भुने झरे झर बेरी,
मिले कलेऊ में बजरा की रोटी मठा मठेरी।
बेटा माँगे गुड की डलिया, बिटिया चना चबेना,
भाभी माँगे खट्टी अमिया, भैया रस की खीर।
सौ-सौ नमन करूँ मैं भैया, सौ-सौ नमन करूँ।

 

फूटे रंग मौर के बन में, खोले बंद किवड़िया,
हरी झील में छप छप तैरें मछरी सी किन्नरिया।
लहर लहर में झेलम झूमे, गावे मीठी लोरी,
पर्वत के पीछे नित सोहे, चंदा सा कश्मीर।
सौ-सौ नमन करूँ मैं भैया, सौ- सौ नमन करूँ।

 

चैत चाँदनी हँसे , पूस में पछुवा तन मन परसे,
जेठ तपे धरती गिरजा सी, सावन अमृत बरसे।
फागुन मारे रस की भर भर केसरिया पिचकारी
भीजे आंचल , तन मन भीजे, भीजे पचरंग चीर,
सौ-सौ नमन करूँ मैं भैया, सौ-सौ नमन करूँ।

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

***

Categories
Uncategorized

हाँफने लगा बूढ़ा आसमान लादे टूटे अणु की धूल- सोम ठाकुर

आज फिर से एक बार मैं अपने प्रिय कवियों मे से एक श्री सोम ठाकुर जी का एक गीत शेयर कर रहा हूँ। इस गीत का विषय क्षेत्र काफी व्यापक है, आज की दुनिया जिसमें नफरत हावी है, एटम बम एक हथियार बन गया जिससे देश एक-दूसरे को डराते रहते हैं और पता नहीं कब किसी तानाशाह अथवा किसी भी राष्ट्राध्यक्ष का दिमाग फिर जाए और यह दुनिया विनाश के कगार पर पहुंच जाए।

 

 

लीजिए प्रस्तुत है यह गीत-

 

चांदनी उछालता गुलाब

 

नज़रों में उग आए हैं बबूल
चेहरों पर धुएँ के नकाब,
मावस छूकर हमने याद किया
चाँदनी उछालता गुलाब।

 

ठहर गया है लंगड़ा आदमी
बारूदी वृक्ष के तले,
लहराई अंगारों की फसल
प्रेम-पत्र जेब में जले,
हाँफने लगा बूढ़ा आसमान
लादे टूटे अणु की धूल।

 

धार-धार खून उगलते चेहरे
दौड़ते सलीबों की ओर,
दौड़ती हुई खामोशी फाड़कर
उठा शोक -गीतों का शोर,
मृत्युवती सृष्टि ओढ़ने लगी
गर्दीले मौसम की झूल।

 

फिर वसंत -पीढ़ियाँ निगल कर
रेंगने लगा बहरा काल, 
हँसी -जड़े खिड़की दरवाज़ो पर
मकड़ी ने पूर दिए जाल, 
करता है तम दिन का आचमन
शांति -मंत्र हो चले फ़िज़ूल।

 

दैत्य -क्षण गुज़र गया बगल से
अंधापन बाँटता हुआ, 
कोई पैना आरा गिर गया
स्वप्न -देह काटता हुआ,
जाने किस घृणावंश में जन्मे
विष -बुझे दिमाग़ों की भूल।

– सोम ठाकुर

 

आज के लिए इतना ही।
नमस्कार।

*****

Categories
Uncategorized

सुबह का सूर्य भी रथ से उतरकर, सुनेगा जुगनुओं का हुक्मनामा!

आज सोम ठाकुर जी का एक गीत शेयर कर रहा हूँ। जब अपनी नियोजक कंपनी के लिए मैं कवि सम्मेलनों का आयोजन किया करता था तब अनेक बार उनसे मिलने का अवसर मिला, बहुत सहृदय व्यक्ति और अत्यंत उच्च कोटि के रचनाकार हैं। उनके अनेक गीत मन पर अंकित हैं। राष्ट्र, राष्ट्रभाषा और रचनाकर के स्वाभिमान को लेकर उनकी अनेक अत्यंत प्रभावशाली रचनाएं हैं।
आज उनका जो गीत शेयर कर रहा हूँ, वह एक व्यंग्य गीत है, जिसमें यह अभिव्यक्त किया गया है कि आज हर क्षेत्र में, लोगों के पास चिंतन-मनन, संवेदन और भावनाओं की गहराई नहीं है लेकिन अहंकार अक्सर प्रदर्शित होता रहता है। लीजिए प्रस्तुत है यह भावपूर्ण गीत-

 

 

नज़रिए हो गये छोटे हमारे,
मगर बौने बड़े दिखने लगे हैं।
चले इंसानियत की राह पर जो,
मुसीबत में पड़े दिखने लगे है।

 

समय के पृष्ठ पर हमने लिखी थी
छबीले मोर पंखों से ऋचाएँ,
सुनी थी इस दिशा में उस दिशा तक
अंधेरो ने मशालों की कथाएँ।
हुए हैं बोल अब दो कौड़ियों के,
कलम हीरे- जड़े दिखने लगे हैं।

 

हुआ होगा कही ईमान मँहगा
यहाँ वह बिक रहा है नीची दरों पर,
गिरा है मोल सच्चे आदमी का
टिका बाज़ार कच्चे शेयरों पर,
पुराने दर्द से भीगी नज़र को
सुहाने आँकड़े दिखने लगे हैं।

 

हमारा घर अजायब घर बना है
सपोले आस्तीनों में पले हैं,
हमारा देश हैं खूनों नहाया
यहाँ के लोग नाखूनों फले हैं,
कहीं वाचाल मुर्दे चल रहे है
कही ज़िंदा गड़े दिखने लगे हैं।

 

मुनादी द्वारका ने यह सुना दी
कि खाली हाथ लौटेगा सुदामा,
सुबह का सूर्य भी रथ से उतरकर
सुनेगा जुगनुओं का हुक्मनामा,
चरण जिनके सितारों ने छुए वे
कतारों में खड़े दिखने लगे हैं।

 

यहाँ पर मज़हबी अंधे कुए हैं
यहाँ मेले लगे है भ्रांतियों के
लगी है क्रूर ग्रहवाली दशा भी,
महूरत क्या निकालें क्रांतियों के
सगुन कैसे विचारें मंज़िलो के,
हमें सूने घड़े दिखने लगे हैं।

 

आज के लिए इतना ही।
नमस्कार।

*****

Categories
Uncategorized

याद के चरन पखारते न बीत जाय रात!

लंदन प्रवास इस बार का भी समाप्त होने को है, एक सप्ताहांत और बाकी है इसमें।

इस बीच आज मन हो रहा है कि सुकवि श्री सोम ठाकुर जी का एक प्यारा सा गीत शेयर कर लूं। कविता अपनी बात खुद ही कहती है, उसके बारे में मैं अलग से क्या कहूं, बस आप इस गीत का आनंद लीजिए –

 

जाओ, पर संध्या के संग लौट आना तुम,
चाँद की किरन निहारते न बीत जाय रात।

 

कैसे बतलाऊँ इस अंधियारी कुटिया में
कितना सूनापन है,
कैसे समझाऊँ, इन हल्की सी साँसों का
कितना भारी मन है,
कौन सहारा देगा दर्द -दाह में बोलो
जाओ पर आँसू के संग लौट आना तुम,
याद के चरन पखारते न बीत जाय रात।

 

हर न सकी मेरे हारे तन की तपन कभी
घन की ठंडी छाया,
काँटों के हार मुझे पहना के चली गई
मधुऋतु वाली माया,
जी न सकेगा जीवन बिंंधे-बिंंधे अंगों में,
जाओ पर पतझर के संग लौट आना तुम,
शूल की चुभन दुलारते न बीत जाय रात।

 

धूल भरे मौसम में बज न सकेगी कल तक
गीतों पर शहनाई,
दुपहरिया बीत चली, रह न सकेगी कल तक
बालों में कजराई,
देर नही करना तुम गिनी -चुनी घड़ियाँ हैं,
जाओ पर सपनों के संग लौट आना तुम,
भीगते नयन उघारते न बीत जाय रात।

 

मेरी डगमग नैया डूबते किनारों से
दुख ने ही बाँधी है,
मेरी आशावादी नगरी की सीमा पर
आज चढ़ी आँधी है,
बह न जाए जीवन का आँचल इन लहरों में,
जाओ, पर पुरवा के संग लौट आना तुम,
सेज की शिकन संवारते न बीत जाय रात।

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

*********