Categories
Uncategorized

दिल को वही काम आ गया!

आज फिर से मैं अपने प्रिय गायक मुकेश जी का गाया एक और गीत शेयर कर रहा हूँ| खास बात ये है आज का ये गीत मुकेश जी ने शम्मी कपूर जी के लिए गाया था, शायद मुकेश जी ने बहुत कम गीत गाये होंगे शम्मी कपूर जी के लिए, मुझे तो कोई और याद नहीं है| फिल्म- ‘ब्लफ़ मास्टर’ के लिए यह गीत- राजेन्द्र कृष्ण जी ने लिखा था और इसका संगीत दिया था – आनंद वीर जी शाह ने|


लीजिए प्रस्तुत है मुकेश जी का गाया, कुछ अलग किस्म का यह गीत, जिसमें प्यार करने न करने के बारे में कुछ तर्क-वितर्क किया गया है-

सोचा था प्यार हम न करेंगे,
सूरत पे यार हम न मरेंगे,
लेकिन किसी पे दिल आ गया|
सोचा था प्यार हम न करेंगे||

बहुत ख़ाक दुनिया की छानी थी हमने,
अब तक किसी की न मानी थी हमने,
धोखे में दिल कैसे आ गया|
सोचा था प्यार हम न करेंगे|


अगर दिल न देते बड़ा नाम करते,
मगर प्यार से बड़ा काम करते,
दिल को यही काम आ गया|


सोचा था प्यार हम न करेंगे
सूरत पे यार हम न मरेंगे
फिर भी किसी पे दिल आ गया|


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
********

Categories
Uncategorized

घुँघरू टूट गए!

ज़नाब क़तील शिफाई जी भारतीय उप महाद्वीप के एक मशहूर शायर रहे हैं, कवि-कलाकार देशों की सीमाओं में नहीं बंधे होते| क़तील साहब की अनेक गज़लें जगजीत सिंह जी और अन्य गायकों ने गाई हैं|


आज उनकी एक अलग किस्म की रचना शेयर कर रहा हूँ| एक ऐसा गीत जो वास्तव में मन के मुक्त होने की छवियाँ प्रस्तुत करता है, घुँघरू के बहाने से| लीजिए प्रस्तुत है क़तील शिफ़ाई जी की यह रचना, जिसे पंकज उधास जी ने और अन्य गायकों ने भी गाया है-


मुझे आई ना जग से लाज
मैं इतना ज़ोर से नाची आज,
कि घुंघरू टूट गए|

कुछ मुझ पे नया जोबन भी था
कुछ प्यार का पागलपन भी था
कभी पलक पलक मेरी तीर बनी
एक जुल्फ मेरी ज़ंजीर बनी
लिया दिल साजन का जीत
वो छेड़े पायलिया ने गीत,
कि घुंघरू टूट गए|


मैं बसती थी जिसके सपनों में
वो गिनेगा अब मुझे अपनों में
कहती है मेरी हर अंगड़ाई
मैं पिया की नींद चुरा लायी,
मैं बन के गई थी चोर
मगर मेरी पायल थी कमज़ोर,
कि घुंघरू टूट गए|

धरती पे ना मेरे पैर लगे
बिन पिया मुझे सब गैर लगे,
मुझे अंग मिले अरमानों के
मुझे पंख मिले परवानों के,
जब मिला पिया का गाँव
तो ऐसा लचका मेरा पांव,
कि घुंघरू टूट गए|


आज के लिए इतना ही
नमस्कार|
*******

Categories
Uncategorized

बर्बादियों का जश्न मनाता चला गया !

आज एक बार फिर से रफी साहब का एक गीत शेयर कर रहा हूँ| यह गीत उन्होंने देव साहब के लिए गाया था| रफी साहब के गाये गीतों में बहुत विविधता देखने को मिलती है, इतनी कि बहुत सारे गीतों को सुनकर ही हम अंदाज़ लगा सकते हैं कि वह गीत रफी साहब ने किस कलाकार के लिए गाया है|

हाँ तो यह गीत साहिर लुधियानवी साहब ने लिखा है और फिल्म- ‘हम दोनों’ के लिए देव आनंद जी पर फिल्माया गया है, इसके संगीतकार जयदेव जी थे| देव आनंद साहब मस्ती भरी भूमिकाओं के लिए जाने जाते थे|

 

 

लीजिए इस मस्ती भरे गीत के बोल पढ़कर इस गीत के प्रभाव को याद करते हैं-

 

मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया, 
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया|

 

बर्बादियों का सोग मनाना फ़िज़ूल था,
बर्बादियों का जश्न मनाता चला गया|

 

जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया,
जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया|

 

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ,
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया|

 

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|

******

Categories
Uncategorized

कोई सपनों के दीप जलाए!

आज फिल्म- ‘आनंद’  के लिए मेरे प्रिय गायक मुकेश जी का गाया एक गीत याद आ रहा है, जो आज तक लोगों की ज़ुबान पर है। उस समय राजेश खन्ना जी सुपर स्टार थे और अमिताभ बच्चन के कैरियर को आगे बढ़ाने में इस फिल्म की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

योगेश जी के लिखे इस गीत को मुकेश जी ने सलिल चौधरी जी के संगीत निर्देशन में गाया था। आइए इसके बोलों के बहाने मुकेश जी के गाये इस अमर गीत को याद कर लेते हैं-

 

 

कहीं दूर जब दिन ढल जाए,
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए,
मेरे ख़यालों के आँगन में,
कोई सपनों के दीप जलाए।

 

कहीं दूर जब दिन ढल जाए,
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए।
कभी यूँ हीं, जब हुईं, बोझल साँसें,
भर आई बैठे बैठे, जब यूँ ही आँखें,
तभी मचल के, प्यार से चल के,
छुए कोई मुझे पर नज़र न आए, नज़र न आए।

 

कहीं तो ये, दिल कभी, मिल नहीं पाते,
कहीं से निकल आए, जनमों के नाते।
घनी थी उलझन, बैरी अपना मन,
अपना ही होके सहे दर्द पराये।
दिल जाने, मेरे सारे, भेद ये गहरे,
खो गए कैसे मेरे, सपने सुनहरे,
ये मेरे सपने, यही तो हैं अपने,
मुझसे जुदा न होंगे इनके ये साये, इनके ये साये।

 

कहीं दूर जब दिन ढल जाए,
साँझ की दुल्हन बदन चुराए,
चुपके से आए।

 

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

***