सब अपने आप में गुम हैं!

ये क्या अज़ाब है सब अपने आप में गुम हैं,
ज़बां मिली है मगर हमज़बां नहीं मिलता|

निदा फ़ाज़ली