मैंने कहा था कि मेरे घर में रहो!

है अब ये हाल कि दर दर भटकते फिरते हैं,
ग़मों से मैंने कहा था कि मेरे घर में रहो|

राहत इन्दौरी