शीशे के झरोखों से सजाया न करो!

शहर-ए-एहसास में पथराव बहुत है मोहसिन,
दिल को शीशे के झरोखों से सजाया न करो|

मोहसिन नक़वी