आवाज़ में छाले हैं!

इस शहर में जीने के अंदाज़ निराले हैं,
होठों पे लतीफ़े हैं आवाज़ में छाले हैं|

जावेद अख़्तर