उस अदा की शिकायत कहाँ कहाँ!

बेगानगी पर उसकी ज़माने से एहतिराज़,
दर-पर्दा उस अदा की शिकायत कहाँ कहाँ|

फ़िराक़ गोरखपुरी