यूँ बेख़बर है वो जैसे!

मेरे वुजूद से यूँ बेख़बर है वो जैसे,
वो एक धूपघड़ी है मैं रात का पल हूँ|

जावेद अख़्तर