Categories
Poetry

तनहाइयों के पेड़ से अटकी पतंग हूँ!

सूर्यभानु गुप्त जी की एक ग़ज़ल आज शेयर कर रहा हूँ| सूर्यभानु जी की ग़ज़लों में वह चमत्कार अक्सर शामिल होता है, जिसकी अच्छी कविता से उम्मीद की जाती है|

उनकी एक बहुत खूबसूरत ग़ज़ल जो मैंने पहले शेयर की है, उसका एक शेर दोहराना चाहूँगा-

एक अच्छा शेर कह के मुझको ये महसूस हुआ,
बहुत दिनों के लिए, फिर से मर गया हूँ मैं|


अभिव्यक्ति की ईमानदारी और प्रभाविता के लिए प्रतिबद्ध शायर ही यह बात कह सकता है|
लीजिए आज सूर्यभानु गुप्त जी की इस ग़ज़ल का आनंद लेते हैं-

हर लम्हा ज़िन्दगी के पसीने से तंग हूँ,
मैं भी किसी क़मीज़ के कॉलर का रंग हूँ|

मोहरा सियासतों का, मेरा नाम आदमी,
मेरा वुजूद क्या है, ख़लाओं की जंग हूँ|

रिश्ते गुज़र रहे हैं लिए दिन में बत्तियाँ,
मैं बीसवीं सदी की अँधेरी सुरंग हूँ|

निकला हूँ इक नदी-सा समन्दर को ढूँढ़ने,
कुछ दूर कश्तियों के अभी संग-संग हूँ|


माँझा कोई यक़ीन के क़ाबिल नहीं रहा,
तनहाइयों के पेड़ से अटकी पतंग हूँ|

ये किसका दस्तख़त है, बताए कोई मुझे,
मैं अपना नाम लिख के अँगूठे-सा दंग हूँ |


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार
******

Categories
Uncategorized

ब्लैक आउट में रोशनी की तरह!

मैंने पहले भी सूर्यभानु गुप्त जी की कुछ रचनाएँ शेयर की हैं| वे बहुत सुंदर रचनाएँ, विशेष रूप से गज़लें लिखते हैं, जिनमें उन्होंने अनेक एक्सपेरीमेंट किए हैं| कुछ शेर तो उनके मुझे अक्सर याद आते हैं, जैसे – ‘जब अपनी प्यास के सहरा से डर गया हूँ मैं, नदी बांध के पत्थर उतर गया हूँ मैं’, ‘दिल वाले फिरते हैं दर-दर सिर पर अपनी खाट लिए’, ‘शाम अजायब घर के आगे, बैठा था भूखा-प्यासा, अपने मरे हुए दादा की, फोटो एक सम्राट लिए; आदि-आदि| वैसे सूर्यभानु गुप्त जी ने कुछ प्रयोग धर्मी फिल्मों और टीवी सीरियल्स के लिए भी गीत आदि लिखे हैं|


आज की इस गजल में भी काफी एक्सपेरीमेंट भाषा और अभिव्यक्ति के स्तर पर देखे जा सकते हैं-



अपने घर में ही अजनबी की तरह,
मैं सुराही में इक नदी की तरह|

एक ग्वाले तलक गया कर्फ़्यू,
ले के सड़कों को बंसरी की तरह|

किससे हारा मैं, ये मेरे अन्दर,
कौन रहता है ब्रूस ली की तरह|

उसकी सोचों में मैं उतरता हूँ,
चाँद पर पहले आदमी की तरह|


अपनी तनहाइयों में रखता है,
मुझको इक शख़्स डायरी की तरह|

मैंने उसको छुपा के रक्खा है,
ब्लैक आउट में रोशनी की तरह|

टूटे बुत रात भर जगाते हैं,
सुख परेशां है गज़नवी की तरह|

बर्फ़ गिरती है मेरे चेहरे पर,
उसकी यादें हैं जनवरी की तरह|


वक़्त-सा है अनन्त इक चेहरा,
और मैं रेत की घड़ी की तरह|



आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|


******