उस पर भी निशाना लगता है!

शाख़ पे बैठी भोली-भाली इक चिड़िया,
क्या जाने उस पर भी निशाना लगता है|

वसीम बरेलवी