हर चीज़ नज़र आएगी बेमा’नी सी!

पहले हर चीज़ नज़र आएगी बे-मा’नी सी,
और फिर अपनी ही नज़रों से उतर जाओगे|

निदा फ़ाज़ली