खुल के जहाँ बात हो सके!

दैरो-हरम पे खुल के जहाँ बात हो सके,
है एक ही मुक़ाम, चलो मयकदे चलें|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’