ज़ाती मकान थोड़ी है!

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे,
किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है|

राहत इन्दौरी