समुंदर नज़र आया होगा!

अपने जंगल से जो घबरा के उड़े थे प्यासे,
हर सराब उन को समुंदर नज़र आया होगा|

कैफ़ी आज़मी