लिए दिल नहीं थोड़ा करते!

शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा,
जाने वालों के लिए दिल नहीं थोड़ा करते|

गुलज़ार