मिलावट न करो छाँव में!

ऐ मेरे हम-सफ़रों तुम भी थाके-हारे हो,
धूप की तुम तो मिलावट न करो छाँव में|

क़तील शिफ़ाई