इक रेल जा रही थी कि!

‘अंजुम’ तुम्हारा शहर जिधर है उसी तरफ़,
इक रेल जा रही थी कि तुम याद आ गए|

अंजुम रहबर