इसका नया इलाज भी हो!

बदल रहे हैं कई आदमी दरिंदों में,
मरज़ पुराना है इसका नया इलाज भी हो|

निदा फ़ाज़ली