तुझे भी काट गिराया लोगों ने!

तेरी लटों में सो लेते थे बे-घर आशिक बे-घर लोग,
बूढ़े बरगद आज तुझे भी काट गिराया लोगों ने|

कैफ़ भोपाली