धोका है सब मगर फिर भी!

किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी,
ये हुस्न ओ इश्क़ तो धोका है सब मगर फिर भी|

फ़िराक़ गोरखपुरी