तुमने लफ़्ज़ों से बेवफ़ाई की!

अब तरसते रहो ग़ज़ल के लिए,
तुमने लफ़्ज़ों से बेवफ़ाई की|

बशीर बद्र