किसी के हुआ नहीं करते!

हज़ार जाल लिए घूमती फिरे दुनिया,
तिरे असीर किसी के हुआ नहीं करते|

अमजद इस्लाम अमजद