कि बरस चुका है पानी!

मिरा ग़म रुला चुका है तुझे बिखरी ज़ुल्फ़ वाले,
ये घटा बता रही है कि बरस चुका है पानी|

नज़ीर बनारसी