इक हमारी सहर नहीं होती!

रात आ कर गुज़र भी जाती है,
इक हमारी सहर नहीं होती|

इब्न ए इंशा