कोई बेवफ़ा मिले!

रिश्तों को बार बार समझने की आरज़ू,
कहती है फिर मिले तो कोई बेवफ़ा मिले।

वसीम बरेलवी