समझ में जब ये आ जाए तो कहना!

ये गुल काग़ज़ हैं ये ज़ेवर हैं पीतल,
समझ में जब ये आ जाए तो कहना|

जावेद अख़्तर