तौर तरीक़े मुझे कम आते हैं!

मैंने दो चार किताबें तो पढ़ी हैं लेकिन |
शहर के तौर तरीक़े मुझे कम आते हैं ||
*****
ख़ूबसूरत सा कोई हादसा आँखों में लिये |
घर की दहलीज़ पे डरते हुए हम आते हैं ||

बशीर बद्र