हवा का गुज़र नहीं होता!

मैं उस मकान में रहता हूँ और ज़िंदा हूँ,
‘वसीम’ जिसमें हवा का गुज़र नहीं होता।

वसीम बरेलवी