द्वार मेरा कोई उस वक्त—

होश अपना भी रहता नहीं मुझे जिस वक्त,
द्वार मेरा कोई उस वक्त खटखटाता है|

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना