जैसे हम को पुकारता है कोई!

देर से गूँजते हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई ।

गुलज़ार