हमने इक बात आज जानी है!

ज़िंदगी इंतिज़ार है तेरा,
हमने इक बात आज जानी है|

फ़िराक़ गोरखपुरी