काई है अब मकानों पर!

ऐसी काई है अब मकानों पर,
धूप के पाँव भी फिसलते हैं।

सूर्यभानु गुप्त