वो लबे-गोया नहीं!

हर तरफ़ दीवार-ओ-दर और उनमें आँखों का हुजूम,
कह सके जो दिल की हालत वो लबे-गोया नहीं|

मुनीर नियाज़ी