खोया हुआ सा कुछ!

होता है यूँ भी, रास्ता खुलता नहीं कहीं,
जंगल-सा फैल जाता है खोया हुआ सा कुछ|

निदा फ़ाज़ली