आख़िर ग़ुबार सा क्यूँ है!

दिलों की राह पर आख़िर ग़ुबार सा क्यूँ है,
थका थका मेरी मंज़िल का रास्ता क्यूँ है|

राही मासूम रज़ा