बड़ी कोई तराज़ू नहीं होती!

आँखों से बड़ी कोई तराज़ू नहीं होती,
तुलता है बशर जिस में वो मीज़ान हैं आँखें|

साहिर लुधियानवी