तिरी याद न जाने निकल आए!

एक ख़ौफ़ सा रहता है मिरे दिल में हमेशा,
किस घर से तिरी याद न जाने निकल आए|

मुनव्वर राना