इक संगदिल बयार है!

मानेगी क्या उखाड़ के, जड़ से ही अब अरे,
इक संगदिल बयार है, जामुन का पेड़ है।

सूर्यभानु गुप्त