न पूरे शहर पर छाए तो कहना!

धुआँ जो कुछ घरों से उठ रहा है,
न पूरे शहर पर छाए तो कहना|

जावेद अख़्तर