किस चीज़ की कमी है अभी!

भरी दुनिया में जी नहीं लगता,
जाने किस चीज़ की कमी है अभी|

नासिर काज़मी

हवा, ख़ुश्बू, ज़मीनो-आसमाँ!

सब उसी के हैं हवा, ख़ुश्बू, ज़मीनो-आसमाँ,
मैं जहाँ भी जाऊँगा, उसको पता हो जाएगा|

बशीर बद्र