तिरे शहर में आते जाते!

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है ,
उम्र गुज़री है तिरे शहर में आते जाते|

राहत इन्दौरी