और तुझे तेरी निगाहों से–

कभी चुपके से चला आऊँ तेरी खिलवत में
और तुझे तेरी निगाहों से बचा कर देखूं |

राहत इन्दौरी