बाग़बाँ को सता रहा है चाँद!

कैसा बैठा है छुप के पत्तों में,
बाग़बाँ को सता रहा है चाँद|

गुलज़ार

Leave a Reply