इक ज़ख़्म है भर जाएगा!

हम तो समझे थे कि इक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा|

परवीन शाकिर

1 Comment

Leave a Reply